विश्व आदिवासी दिवस विशेष : आदिवासी प्रकृति पूजक के साथ प्रकृति के संरक्षक भी : करिया मुंडा - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Monday, August 9, 2021

विश्व आदिवासी दिवस विशेष : आदिवासी प्रकृति पूजक के साथ प्रकृति के संरक्षक भी : करिया मुंडा

 



विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय में सोमवार को  सात दिवसीय लेक्चर सिरीज समारोह की शुरूआत की गई। इस अवसर पर विश्वविद्यालय सभागार में कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें मुख्य वक्ता के तौर पर बोलते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री व लोकसभा के पूर्व उपसभापति पदम भूषण कड़िया मुंडा ने कहा कि आदिवासियों के सर्वांगिण विकास में जो कमियां रह गई हैं । उसके लिए चर्चा होना जरूरी है। साथ ही उन्होने इस बात पर भी जोर दिया कि सरकार की ओर से योजनाएं तो बहुत चल रही हैं । इन योजनाओं से आदिवासी समाज में जो परिवर्तन आएं हैं, उन पर चर्चा करने की जरूरत होनी चाहिए। इस पर शोध व मूल्यांकन करने की आवश्यकता है। आदिवासी प्रकृति के साथ जीते हैं साथ ही उसके संरक्षण के लिए आदिवासी समाज अग्रणी भूमिका निभाता रहा है। इस समाज के द्वारा किये जा रहे अनुकरणीय बातों को अन्य समाज के ले जाने की आवश्यकता है।


विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो क्षिति भूषण दास ने अपने व्याख्यान के दौरान कहा कि आदिवासी विकास के प्रति संवेदनशील रहकर ऐसी शिक्षा व्यवस्था लागू करने की जरुरत है जो आदिवासीयों के रूचि के हिसाब से हो। उनकी संस्कृति व भाषा को केंद्र में रखते हुए पूरे देश मे कोर्स शुरू किया जाना चाहिए। मुख्य अतिथि के रूप में अध्यक्ष आईसीपीआर, दिल्ली प्रो रमेशचंद्र सिन्हा ने  विश्वविद्यालय को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आदिवासीयों के सांस्कृतिक व भौतिक विकास में समन्वय बनाने की आवश्यकता है।


विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो एसएल हरिकुमार ने अतिथियों का स्वागत करते हुए सीयूजे में आदिवासी शिक्षा एवं शोध में हो रहे कार्यो का उल्लेख किया। प्रो आर के डे,प्रो मनोज कुमार,डा सुचिता सेन चौधरी,डा रविंद्र नाथ शर्मा कार्यक्रम में शामिल हुए कोविड प्रोटोकॉल की वजह से कार्यक्रम केवल पचास लोगों को आमंत्रित गया था।  जिसमें समस्त डीन, विभागाध्.यक्ष पुस्कालय अध्यक्ष डा एस के पांडे , उपकुलसचिव ले. कमांडर उज्जवल कुमार(सेवानिवृत ), अब्दुल हलिम, पीआरओ नरेंद्र कुमार कार्यक्रम का आयोजन डा शिवेंद्र प्रसाद, डा प्रज्ञा शुक्ला, डा रजनीकांत, गुंजल मुंडा ने किया। विश्वविद्यालय के कई शोध छात्र-छात्राएं भी शामिल हुए।

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us