मजदूरों के हक की आवाज उठाने वालों को दबाने का हो रहा प्रयास : सीपी चौधरी - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Tuesday, August 18, 2020

मजदूरों के हक की आवाज उठाने वालों को दबाने का हो रहा प्रयास : सीपी चौधरी

 


  --रितेश कश्यप 

रामगढ़। मांडू विधानसभा प्रभारी तिवारी महतो के रामगढ़ प्रशासन द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद गिरिडीह के सांसद एवं पूर्व मंत्री झारखंड सरकार सीपी चौधरी ने मंगलवार को प्रेस वार्ता कर झारखंड सरकार और रामगढ़ प्रशासन के क्रियाकलापों पर निशाना साधा। श्री चौधरी ने कहा कि मांडू विधानसभा प्रभारी तिवारी महतो को रामगढ़ प्रशासन द्वारा गिरफ्तार करना सरासर गलत है। तिवारी महतो मजदूरों के हक की आवाज उठा रहे थे मगर प्रशासन ने उनके द्वारा किए गए आंदोलन को कुचलने का प्रयास किया और झारखंड इस्पात फैक्ट्री के प्रबंधकों के साथ मिलकर मजदूर के साथ हो रहे अन्याय को भी अनदेखा किया। श्री चौधरी ने झारखंड की हेमंत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन गरीब आदिवासी और मजदूरों के नाम पर राजनीति किया जाता है आज उन्हीं मजदूरों के शोषण करने वालों के साथ झारखंड सरकार कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है। उन्होंने कहा कि यह घटना झारखंड सरकार के खोखले दावों का पोल खोल रही है। एक तरफ झारखंड सरकार प्रवासी मजदूरों को काम देने का खोखला वादा कर रही है दूसरी तरफ मजदूरों के साथ हो रहे शोषण के खिलाफ आवाज उठाने वालों को जेल में डालने का प्रयास कर रही है। झारखंड इस्पात फैक्ट्री में एक मजदूर के शव को 48 घंटे तक रखे जाने के बाद भी उसे न्याय नहीं मिल पाया साथ ही उस मजदूर को डरा धमका कर घर भेज दिया गया। श्री चौधरी ने मजदूरों के खिलाफ हो रहे अन्याय के विरोध में इस आंदोलन को जारी रखने की बात कही और कहा कि अगर रामगढ़ प्रशासन और झारखंड सरकार इस मामले को गंभीरता से नहीं  लिया गया तो आंदोलन को और भी उग्र किया जाएगा। प्रेस वार्ता के दौरान बड़कागांव पूर्व विधानसभा प्रभारी रोशन लाल चौधरी, नगर परिषद अध्यक्ष योगेश बेदिया, नगर परिषद उपाध्यक्ष मनोज महतो ,आजसू रामगढ़ जिला अध्यक्ष विजय साहू सहित दर्जनों आजसू कार्यकर्ता मौजूद रहे।

आपको बताते चलें कि 9 अगस्त के दिन झारखंड इस्पात फैक्ट्री में बुद्धू उरांव नामक एक मजदूर गिरकर बेहोश हो चुका था। उसके बाद उस मजदूर को रांची के अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल वालों ने बताया कि गिरने की वजह से उसके सर में चोट लग गई जिससे उसका ब्रेन हेमरेज हो गया। 1 सप्ताह के बाद मजदूर बुद्धू उरांव की मौत हो गई। परिजनों ने झारखंड इस्पात फैक्ट्री के बाहर मजदूर के मौत का मुआवजा को लेकर आंदोलन किया जा रहा था जिसमें मांडू विधानसभा प्रभारी तिवारी महतो ने अग्रणी भूमिका निभाई थी। तिवारी महतो सहित कई  आजसू कार्यकर्ताओं को रामगढ़ प्रशासन द्वारा कई धारा लगाकर गिरफ्तार कर लिया गया था।

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us