बरकाकाना ओपी मे प्रभारी के सामने ही खुलेआम सोशल डिस्टेंसिंग की अवमानना, मास्क लगाना भी जरूरी नहीं समझते पुलिस के जवान - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Friday, April 17, 2020

बरकाकाना ओपी मे प्रभारी के सामने ही खुलेआम सोशल डिस्टेंसिंग की अवमानना, मास्क लगाना भी जरूरी नहीं समझते पुलिस के जवान


रामगढ़ | जहां पूरे देश और राज्य मे सोशल डिस्टेंसिंग और लॉक  डाउन का पालन सख्ती से किया जा रहा है वहीं झारखंड के रामगढ़ में बरकाकाना पुलिस प्रशासन के द्वारा ही इस नियम की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। शुक्रवार की सुबह दैनिक जागरण छपी खबर के अनुसार सड़क पर पुलिस को सम्मानित करने वाली भीड़ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें या ना करें उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। वहीं अगर कोई व्यक्ति किसी अत्यंत आवश्यक काम से एटीएम पर जाता है तो उसकी गाड़ी जब्त कर उसके साथ मारपीट करने में पुलिस को कोई गुरेज नहीं होता।

झारखंड सरकार और प्रशासन की ओर से जारी की गई दिशा निर्देश शायद बरकाकाना पुलिस तक नहीं पहुंच पाई है इसीलिए शायद वहाँ अपना अलग ही कानून चल रहा है । जिले के कई थाने में सामुदायिक किचन की व्यवस्था की गई है जिसमें गरीब लोगों को भोजन कराया जाना है। यहां पर भी प्रशासन के निर्देश के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनना जरूरी है ताकि इस वायरस का खतरा कम से कम हो सके।  अब बात करें बरकाकाना पुलिस प्रशासन की तो यहां पर एक तो सोशल डिस्टेंसिंग का नामोनिशान नही दिख रहा है और तो और एक बच्चे को भोजन देते हुए आधा दर्जन लोग बरकाकाना ओपी प्रभारी साथ मे  फोटो खिंचवा रहे हैं जिसमे पुलिस का एक जवान बिना मास्क के भी दिखाई दे रहा है ।



क्या कहा ओपी प्रभारी हरीनारायण साह ने ?

इस बात को लेकर  बरकाकाना ओपी प्रभारी हरिनारायण साह से बात करने पर उन्होंने कहा कि फ़ोटो खीचने वक़्त में भीड़ हो गयी थी और उतना तो हो ही सकता है। अब जब खुद प्रभारी महोदय को ही ये सही लग रहा है तब आगे कुछ कहा भी नही जा सकता था। उनके हिसाब से थोड़ा मोड़ा हो सकता है।

सामुदायिक किचन की अगर बात की जाए तो यहां पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। सामुदायिक कीचन  का खाना गरीबों के लिए बनाया जाना है मगर यहाँ खाना बांटने से ज्यादा सारे नियमों को ताक पर रखकर  तस्वीर खिचवाने की होड दिखाई दी। तस्वीरों से देखा जा सकता है कि अधिकांश लोग बिना मास्क के ही खाना लेने के लिए खड़े हैं और तो और पुलिस के जवान भी बिना मास्क के ही तस्वीरों में दिखाई दे रहे हैं। इस विषय पर जब प्रभारी महोदय से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन की ओर से सभी को मास्क मुहैया कराया गया है , मगर कभी कबार मास्क उतर जाता है।  बरकाकाना ओपी प्रभारी से अखबार की में छपी खबर पर पूछताछ करने पर उन्होंने कहा कि यह खबर दुर्भावना से ग्रसित है। वहीं जब तस्वीरों के लिए उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कभी कबार हो जाया करता है इसमे कोई बड़ी बात नहीं है।
एक बच्चे को खाना देते हुए कई लोग

क्या कहा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी प्रकाश महतो ने ?

इस बात को लेकर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि सामुदायिक किचन में गरीबों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है और साथ में उन्होंने बताया कि मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना सबके लिए अनिवार्य है और अगर यह नहीं किया जा रहा है तो इस बात की उन्हें जानकारी नहीं है वह इस बात का संज्ञान जरूर लेंगे।

सावधान : अगर  आप सोशल डिस्टेंस की अवमानना करते दिखाई देते हैं तो आप पर हो सकती है कार्यवाई 

आपको बताते चले की रामगढ़ के उपायुक्त संदीप सिंह द्वारा आदेश जारी किया गया है कि यदि कोई व्यक्ति घर से बाहर निकले तो उन्हें मास्क लगाना अनिवार्य होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर मास्क ना हो तो रुमाल ,गमछा , दुपट्टा आदि को मास्क की तरह बना कर मुंह ढका जा सकता है। आगे उन्होंने कहा कि किसी भी सरकारी कार्यालय, अस्पताल, बाजार , रोड, पीडीएस दुकान सहित अन्य किसी भी स्थल पर बिना मास्क के प्रवेश वर्जित होगा। उन्होंने यह भी आदेश जारी करते हुए कहा की सोशल डिस्टेंस की अवमानना और मास्क ना लगाने वालों पर धारा 188 के तहत कार्यवाही कि जाएगी।



सुलगते सवाल

  •  जनता के लिए बनाए गए नियम पुलिस पर लागू नही होते हैं क्या  ? 
  • प्रशासन के द्वारा लॉक डाउन उल्लंघन पर कोई कानून नहीं है क्या?
  • फोटो खिंचवाने वक्त की भीड़ में सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ा जा सकता है क्या? 
  • जनता मास्क ना पहने तो धारा 188 के तहत होगी कार्रवाई और अधिकारियों का क्या ? 
  • बरकाकाना ओपी में केंद्र और राज्य से अलग कानून चलता है क्या?

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us