24 घंटे के भीतर सामूहिक दुष्कर्म के अपराधियों को भेजा गया जेल - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Friday, February 7, 2020

24 घंटे के भीतर सामूहिक दुष्कर्म के अपराधियों को भेजा गया जेल


रामगढ़। जिले के कुजू थाना क्षेत्र में एक युवती के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया । इस मामले में पुलिस ने छापेमारी करते हुए चार आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया। इसी क्रम में शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने प्रेस वार्ता कर बताया कि पीड़िता अपने तीन बहनों के साथ पतरातू डैम घूमने गई थी।  लौटने के क्रम में गुरुवार को दोपहर के 2:00 बजे अपने मामा के मोटरसाइकिल पर सवार होकर अपने घर जा रही थी। जाने के क्रम में कुजू थाना क्षेत्र के अंतर्गत नया मोड़ से साडूबेड़ा जाने वाली रोड पर मुरपा जंगल में किसी काम से वह मोटरसाइकिल से उतर गई। उतरते ही उसका पीछा कर रहे तीन मोटरसाइकिल से चार व्यक्ति उसके पास आए और उसके मामा को बंधक बनाकर लड़की को जंगल की ओर ले गए । युवकों ने युवती को अकेला पाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। युवती के सहयोगी ने इस घटना की जानकारी कुजू पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए रात भर छापेमारी कर चारों आरोपी को हिरासत में ले लिया। चारों आरोपियों की पहचान करा ली गई है और सब ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।
पुलिस अधीक्षक ने आगे बताया कि पीड़िता का 164 का बयान एवं मेडिकल जांच की कार्रवाई पूरी कर ली गई है।
गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम अमित कुमार 27 वर्ष, अनिल कुमार 26 वर्ष , संजय कुमार 25 वर्ष, मिथुन कुमार 21 वर्ष है। चारों आरोपी मांडू थाना क्षेत्र के बोंगा वार के रहने वाले हैं। इन चारों पर कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया गया है।
 छापामारी दल में भरत पासवान, गौतम कुमार, सुरेश सिंह कुंडिया, पूरन सिंह, सामंत कुमार दास , कुलदीप मींज, ऋतु कुमार, सुधीर कुमार सिंह, दुर्गा उरांव , कुमार उमेश्वर, विजय कुमार मिश्र, गुन्नू राम हेंब्रम एवं कुजू ओपी क्षेत्र के रिजर्व गार्ड मौजूद रहे।

राष्ट्र समर्पण की बात

इस घटना के 24 घंटे के भीतर रामगढ़ पुलिस ने आरोपियों को धर दबोचा जिससे अपराधियों में भय का माहौल तो जरूर होगा और आगे वह लोग किसी भी अपराध को करने से पहले दो बार जरूर सोचेंगे। सवाल यह उठता है कि इस तरह के अपराध होते ही क्यों हैं इस पर प्रशासन या सरकार गंभीरता से विचार क्यों नहीं करती ?
पुलिस का काम अपराधियों को जेल के सलाखों के पीछे डालना तो होता ही है साथ ही सरकार को इस विषय को लेकर जागरूकता फैलाने की जरूरत है ताकि भविष्य में ऐसी घटना दोबारा ना घटे और हमारी बहन बेटियां सुरक्षित अपने घर पहुंच सके।

वीडियो न्यूज़

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us