प्रखंड, अनुमंडल , नगरपरिषद और भाजपा कार्यालय होने के बावजूद खुले में शौच को मजबूर - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Wednesday, August 28, 2019

प्रखंड, अनुमंडल , नगरपरिषद और भाजपा कार्यालय होने के बावजूद खुले में शौच को मजबूर


 रितेश कश्यप

रामगढ़। भाजपा के शासन में आने के बाद देश के कई शहर और गांव खुले में शौच से मुक्त हो गए मगर रामगढ़ नगर के ब्लॉक के समीप का क्षेत्र अब तक खुले में शौच से मुक्त नहीं हो सका है। हैरानी की बात यह है कि जिस ब्लॉक क्षेत्र की बात की जा रही है वहां पर काफी समय से भाजपा कार्यालय, प्रखंड कार्यालय एवं अनुमंडल कार्यालय भी स्थित है।

अनुमंडल कार्यालय नगर परिषद कार्यालय प्रखंड कार्यालय अधिवक्ताओं का बार एसोसिएशन और भाजपा कार्यालय के बावजूद इसके वहां के लोगों को अब तक खुले में शौच से आजादी नहीं मिल पाई है।

मजे की बात है कि प्रखंड कार्यालय और भाजपा कार्यालय के बीचोंबीच एक शौचालय डेढ़ साल पहले बनाया गया था जिसका उद्घाटन के शिलालेख पर भाजपा के वर्तमान सांसद जयंत सिन्हा, गिरिडीह के सांसद चंद्र प्रकाश चौधरी नगर परिषद के अध्यक्ष युगेश बेदिया और नगर परिषद उपाध्यक्ष मनोज महतो का नाम अंकित है।
वहां के कुछ लोगों ने कहा कि इतने बड़े-बड़े पदाधिकारी आसपास होने और भाजपा सरकार के कार्यालय होने के बावजूद अब तक हम लोगों को खुले में शौच जाना पड़ता है ।

वहां मौजूद भाजपा अध्यक्ष चंद्रशेखर चौधरी ने नगर परिषद पर ठीकरा फोड़ते हुए कहा की यह काम नगर परिषद को करना चाहिए था मगर अब तक नहीं हो पाया है जो गलत है।

भाजपा उपाध्यक्ष बिरसा हांसदा ने कहा की प्रखंड कार्यालय के समीप डेढ़ साल से शौचालय का बंद होने से यही साबित होता है कि सरकारी पैसों का दुरुपयोग किया गया है।

भाजपा नेता धनंजय पुटुस से पूछा गया कि भाजपा के लोग शौच के लिए कहां जाते हैं तो उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यालय में शौचालय बना हुआ है और भाजपा के लोग वही जाते हैं।

मौके पर एक व्यक्ति ने बताया कि यहां सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं के लिए है क्योंकि पुरुष तो अधिवक्ता कार्यालय के पीछे चले जाते हैं मगर महिलाओं के लिए कोई स्थान निर्गत नहीं किया गया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे कई जगह है जहां शौचालय बनाए गए हैं मगर वहां इतनी गंदगी है कि कोई भी व्यक्ति जा ही नहीं सकता।

नगर कार्यपालक अधिकारी सुरेश यादव  से बात करने पर उन्होंने कहा कि अब तक इस बात की जानकारी उन्हें नहीं थी मगर अब इस विषय पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी।


छावनी परिषद के वार्ड पार्षद राजेंद्र नायक ने बताया कि अब तक इस बात पर किसी ने गौर नहीं किया था मगर जल्द ही शौचालय की व्यवस्था की जाएगी।

परेशानी सिर्फ शौचालय का ना होना नहीं है परेशानी वहां भी है जहां शौचालय तो है मगर उसके साफ-सफाई को लेकर ना तो नगर परिषद की नींद टूटी है और ना ही रामगढ़ छावनी परिषद की।

भाजपा कैंट मंडल अध्यक्ष ऋषिकेश सिंह ने प्रशासन को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उन्होंने पहले भी कई बार इस विषय पर अपनी बात रखी है मगर उन्होंने इस ओर कभी ध्यान दिया ही नहीं।




सुलगते सवाल


  • इतने सारे सरकारी कार्यालय होने के बाद भी आज तक जनता खुले में शौच क्यों जाती है ? 
  • सरकार के सबसे महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट खुले में शौच से आजादी का नारा रामगढ़ नगर क्यों नहीं पहुंचा ?
  • नगर परिषद के द्वारा डेढ़ साल पहले खोला गया शौचालय अब तक बंद क्यों ?
  • सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे भाजपाइयों की भी प्रशासन क्यों नहीं सुन रहे? 

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us