पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के जिला समन्वयक ₹75000 घूस लेते गिरफ्तार - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Monday, July 15, 2019

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के जिला समन्वयक ₹75000 घूस लेते गिरफ्तार

भ्रष्टाचार के खिलाफ गोला प्रखंड से बरियातू पंचायत की मुखिया सुबाला देवी ने हजारीबाग एसीबी से शिकायत की थी की पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के जिला समन्वयक जितेंद्र झा ने  उनसे ₹75000 घूस की मांग की है । इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए हजारीबाग एसीबी की टीम ने सोमवार को योजना बनाकर जितेंद्र झा को गिरफ्तार कर लिया गया। 



प्राप्त जानकारी के अनुसार पीएचइडी कार्यालय में डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम मैनेजमेंट यूनिट में कार्यरत जिला समन्वयक जितेंद्र झा को एसीबी ने घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर अपने साथ हजारीबाग ले गई।

गोला प्रखंड के बरियातू पंचायत की मुखिया सुबाला देवी ने आवेदन दिया था कि उनके पंचायत क्षेत्र में 139 यूनिट शौचालय का निर्माण करने का आदेश दिया गया था उसी के कमीशन स्वरूप ₹75000 घूस मांगे गए थे। उसके बाद वहां की मुखिया सुबाला देवी ने एसीबी से शिकायत कर इस मामले पर उचित कार्रवाई करने की मांग की थी।

हजारीबाग से आई हुई एसीबी की टीम ने कार्रवाई करते हुए मामले की छानबीन में जुट गई थी। एसीबी की टीम ने जांच के क्रम में पाया कि रुपए मांगने की बात सही है उसके बाद एसीबी की टीम ने सोमवार को घूस लेते हुए जितेंद्र झा को गिरफ्तार कर लिया और अपने साथ हजारीबाग ले गई।

पहले भी लगाए जा चुके हैं जितेंद्र कुमार झा पर आरोप

कुछ समय पहले एक आदिवासी युवती सुषमा कुमारी जो रामगढ जिला पीएचडी विभाग में प्रखंड समन्वयक के रूप में कार्यरत थी उन्होंने भी जितेंद्र झा पर आरोप लगाया था कि कार्यालय में अकेला पाकर उनके साथ छेड़खानी एवं दुष्कर्म करने का प्रयास किया गया है। इसके खिलाफ रामगढ़ महिला थाना प्रभारी शकुंतला नाग के पास प्राथमिकी दर्ज की गई थी और पीएचडी विभाग को लिखित सूचना भी दी गई थी।

इस प्रकरण में अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन रामगढ़ जिला सचिव नीता बेदिया ने मांग किया है कि जितेंद्र कुमार झा सिर्फ भ्रष्टाचारी ही नहीं बल्कि महिलाओं के साथ छेड़खानी एवं ब्लैकमेल भी करते रहते हैं इसलिए उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो इसके लिए एपवा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी।

--रितेश कश्यप 

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us