महिला शक्ति की प्रतीक कित्तूर की रानी चेन्नम्मा - Rashtra Samarpan News and Views Portal

Breaking News

Home Top Ad


 Advertise With Us

Post Top Ad


Subscribe Us

Wednesday, October 24, 2018

महिला शक्ति की प्रतीक कित्तूर की रानी चेन्नम्मा

महिला शक्ति की प्रतीक कित्तूर की रानी चेन्नम्मा

कर्नाटक राज्य के कित्तूर की रानी चेन्नम्मा सन् 1824 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ अपनी सेना बनाकर लड़ने वाली पहली रानी थी. बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और तभी से वह भारतीय स्वतंत्रता अभियान की पहचान बन गयी.

23 अक्तूबर, 1778  को चेन्नम्मा का जन्म भारत के कर्नाटक राज्य के बिलगावी जिले के छोटे से गांव काकटि में हुआ था. बचपन में ही उन्होंने घोड़े की सवारी, तलवार से लड़ने और तीरंदाजी में प्रशिक्षण प्राप्त कर लिया था. रानी चेन्न्म्मा के युद्ध कौशल और योग्यता की वजह से उनका विवाह अपने पड़ोसी राज्य के देसाई परिवार के राजा मल्लासर्ज से हुआ था.

सन् 1824 में अपने बेटे की मृत्यु के बाद उन्होंने अपने दत्तक पुत्र शिवलिंगप्पा को अपना उत्तराधिकारी बनाया. अंग्रेजों ने रानी के इस कदम को स्वीकार नहीं किया और शिवलिंगप्पा को पद से हटाने का आदेश दिया और यहीं से उनका अंग्रेजों से टकराव शुरू हुआ, जब उन्होंने अंग्रेजों का आदेश स्वीकार करने से इनकार कर दिया.

अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध में रानी चेनम्मा ने अपूर्व शौर्य का प्रदर्शन किया, लेकिन वह लंबे समय तक अंग्रेजी सेना का मुकाबला नहीं कर सकीं. उन्हें कैद कर बेलहोंगल किले में रखा गया, जहां 21 फरवरी 1829 को उन्होंने अंतिम सांस ली. उन्होंने आज़ादी के लिए जो अलख जलाई, उससे कई लोगों ने प्रेरणा ली. रानी चेनम्मा के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता. वे न सिर्फ महिला शक्ति की प्रतीक हैं, बल्कि एक बड़ी प्रेरणा स्रोत भी हैं.

No comments:

Post a Comment

Like Us

Ads

Post Bottom Ad


 Advertise With Us